संदेश

October, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अखिलेश श्रीवास्तव चमन की कहानी 'सजग-प्रहरी'

चित्र
आज की हमारी यह दुनिया बड़ी अजीब है। जिनसे हम मानवता की उम्मीद करते हैं, वही तरह-तरह से मानवता की भावना को आहत करते रहते हैं। यह सब उस धर्म के नाम पर होता है जो मानवीय-मूल्यों की रक्षा के लिए ही अस्तित्व में आयादुनिया में हर जगह पूँजीवादी सत्ताधारियों द्वारा आम आदमी का तरह-तरह से शोषण और उत्पीड़न किया जाता रहा है। इनके द्वारा उत्पीड़न के तरह-तरह के हथियार इजाद किए जाते हैं और तरह तरह के तरीके गढ़े जाते हैं। चूंकि साहित्यकार अपने समय का सजग प्रहरी होता है इसलिए वह अपने समय कि इन चालाकियों को उजागर करने का काम करता रहा है। कहानीकार अखिलेश श्रीवास्तव चमन अपनी इस कहानी में  एक जगह कहते हैं  - 'मैं लगातार यही सोचता रहा कि मेहनत, मजदूरी कर के जैसे-तैसे जी रहे इस गरीब बेचारे से भला किसी को क्या दुश्मनी हो सकती है। भला इससे किसी को क्या खतरा हो सकता है। इसे कौन किसी की जमीन, जायदाद या संसाधनों पर कब्जा करना है। बांग्लादेश हो या कि हिन्दुस्तान गरीब की नियति तो एक ही है। उसे तो दो वक्त की रोटी की दरकार है बस। लेकिन वह भी चैन से नहीं खाने देते लोग।' तो आइए पढ़ते हैं अखिलेश श्रीवास्तव चम…

अलेसिया मकोव्स्काया का आलेख बेलारूस में मेरी हिन्दी : बचकानी अभिरूचि से लेकर व्यावसायिक कार्य तक

चित्र