संदेश

February, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वर्ष 2017 का श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान श्री रामदेव धुरंधर को

चित्र
श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान की गणना कुछ ही वर्षों में हिन्दी के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान के रूप में की जाने लगी है। वर्ष 2017 का श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान श्री रामदेव धुरंधर को छः खंडों में प्रकाशित उनके चर्चित उपन्यास ‘पथरीला सोना’ के लिए प्रदान किया गया। रामदेव जी को यह सम्मान दिनांक 31 जनवरी 2018 को नई दिल्ली के एनसीयूआई ऑडिटोरियम में आयोजित एक समारोह में सुविख्यात साहित्यकार श्री गिरिराज किशोर ने प्रदान किया। प्रस्तुत है इस कार्यक्रम की एक रपट।

वर्ष 2017 का श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान श्री रामदेव धुरंधर को


नई दिल्लीः 31 जनवरी 2018; उर्वरक क्षेत्र की प्रमुख संस्था इफको द्वारा वर्ष 2017 का ‘श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान’ मॉरीशस के वरिष्ठ कथाकार श्री रामदेव धुरंधर को प्रदान किया गया। उन्हें यह सम्मान दिनांक 31 जनवरी 2018 को नई दिल्ली के एनसीयूआई ऑडिटोरियम में आयोजित एक समारोह में सुविख्यात साहित्यकार श्री गिरिराज किशोर ने प्रदान किया। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर मॉरीशस उच्चायोग के प्रथम सचिव श्री वी. चिट्टू मौजूद थे।

श्री धु…

राकेश धर द्विवेदी की कविताएँ

चित्र
जीवन के मूलभूत मूल्य आधुनिकता की दौड़ में अब लगातार पीछे छूटते जा रहे हैं. घर-परिवार-समाज को एक रखने वाली इकाईयों के आपसी सूत्र और उनके रेशे एक-एक कर लगातार टूटते-बिखरते जा रहे हैं. एक जिम्मेदार रचनाकार की नजर उन टूटते जा रहे बारीक रेशों पर जाती हैं और वह उन्हें अपनी रचना का हेतु बना कर उसे फिर से पुनर्स्थापित करने का प्रयास करता है. राकेश की कविताएँ पढ़ते हुए यह बात सहज ही दिखायी पड़ती है. राकेश ने अपनी कविताओं में छंद को साधने की सफल कोशिश की है. राकेश के यहाँ भावुक अनुभूतियाँ कुछ अधिक ही हैं. लेकिन केवल कोरी भावुकता से काम नहीं चलने वाला है. उन्हें इससे आगे बढ़ना होगा. समय की जटिलताओं पर पारखी निगाह डालनी होगी. उन जटिलताओं को काव्य में उकेरने की भाषा जाननी होगी. यह भी जानना होगा कि सघन वैचारिक चेतना की रश्मियों के भी अपने बिखराव में अलग तरह के छंद होते हैं. काव्य-यात्रा में आगे बढ़ने की प्रक्रिया में संभव है कि राकेश आगे चल कर इन बेतरतीब रश्मियों को भी एक कवि की नजर से देखें और उन्हें अपनी कविता में साधने की सफल कोशिश करें. 'पहली बार' पर इस युवा कवि का स्वागत करते हुए हम प्रस्तु…